खांसी, जुकाम, बुखार होने पर आइसोलेशन में रखकर कराई जाएगी डीएलएड की परीक्षा

प्रारंभिक शिक्षा में पत्रोपाधि पाठ्यक्रम (डीएलएड) प्रथम व द्वितीय वर्ष की 1 सितंबर से शुरू होने जा रही परीक्षा के लिए न केवल परीक्षा केंद्रों को सेनेटाइज कराया जाएगा बल्कि परीक्षा केंद्र में प्रवेश से पहले सभी की थर्मल स्क्रीनिंग कराई जाएगी।

अधिकारी- कर्मचारियों में अगर कोई खांसी, जुकाम, बुखार से पीड़ित पाया जाएगा तो उससे परीक्षा कार्य नहीं कराया जाएगा और अगर किसी परीक्षार्थी में बीमारी के लक्षण पाए जाएंगे तो उसकी परीक्षा आइसोलेशन में कराई जाएगी। इसके लिए परीक्षा केंद्र पर एक कमरा रिजर्व किया जाएगा। इसके बाद कोरोना टेस्ट कराने का मशवरा दिया जाएगा।

यहां बता दें डीएलएड परीक्षा के लिए 10 केंद्र बनाए गए हैं। इनमें प्रथम वर्ष के 2 हजार 707 एवं द्वितीय वर्ष के 2 हजार 600 परीक्षार्थी शामिल होंगे। प्रशासन द्वारा इन परीक्षाओं को निर्विघ्न और नकल रहित कराने के साथ ही कोविड- 19 के संक्रमण मुक्त रखने के लिए विशेष रूप से तैयारियां की गई हैं।

डीईओ हरभवन सिंह तोमर ने बताया सभी केंद्राध्यक्षों को परीक्षा केंद्रों पर सेनेटाइजर, साबुन व पानी की व्यवस्था कराने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही थर्मल स्क्रीनिंग के लिए भी विशेष रूप से निर्देशित किया गया है। अधिकारी- कर्मचारी व परीक्षार्थी सभी अपने मुहं पर मास्क लगाए रखेंगे।

Leave a Reply