मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी कोरोना पॉजिटिव होने के बाद सैकड़ों लोगों से मिले

भोपाल। धार्मिक आयोजनों पर प्रतिबंध लगाकर राजनीतिक रैलियां कर रही शिवराज सिंह सरकार के मंत्री एक के बाद एक संक्रमित होते जा रहे हैं। मध्यप्रदेश में कोरोनावायरस का संक्रमण नियंत्रित करने के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया की सिफारिश पर स्वास्थ्य मंत्री बनाए गए डॉक्टर प्रभु राम चौधरी खुद संक्रमित पाए गए हैं।

कैबिनेट मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने सोशल मीडिया के जरिए अपने सभी मित्रों और फॉलोअर्स को सूचित किया है कि ‘मेरी कोविड की रिपोर्ट टेस्ट के बाद पॉजि़टिव आई है।मेरा सभी से निवेदन है जो भी मेरे संपर्क में आए हैं, वह कोरोना टेस्ट करवा लें। मेरे निकट संपर्क वाले लोग क्वारनटीन में चले जाएं।आप सभी की प्रार्थना एवं आशीर्वाद से जल्द आप सभी के बीच उपस्थित होकर फिर जन सेवा के कार्यों में लगेंगे।’

मंत्री प्रभु राम चौधरी जांच के लिए सैंपल देने के बाद भी सार्वजनिक कार्यक्रमों में शामिल हो रहे थे

इस मामले में भी सत्ता की मनमानी सामने आई है। कोविड-19 की जांच के लिए सैंपल देने के बाद भी मध्य प्रदेश के चिकित्सा मंत्री डॉक्टर प्रभु राम चौधरी सार्वजनिक कार्यक्रमों में शामिल हो रहे थे। दिनांक 22 अगस्त को स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने पंचायत प्रतिनिधियों एवं रोजगार सहायकों के साथ योजनाओं और विकास कार्यों की समीक्षा की थी। इसके अलावा और भी कई सरकारी कार्यक्रमों में शामिल हुए थे।

रात में बुखार आया, सुबह रिपोर्ट पॉजिटिव

बताया गया है कि स्वास्थ्य मंत्री शनिवार शाम को रायसेन से लौटे थे। रात में उनको गले में खरास और बुखार सांस लेने में तकलीफ हुई थी। इसके बाद मेडिकल टीम ने उनके घर पहुंचकर ट्रूनोट प्रणाली से मंत्री चौधरी और उनकी पत्नी डॉ. नीरा चौधरी का सैंपल लिया था। जिसमें मंत्री की रिपोर्ट पॉजिटिव और उनकी पत्नी की रिपोर्ट निगेटिव आई। मंत्री को इलाज के लिए चिरायु अस्पताल में भर्ती किया गया है।

Leave a Reply