पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने स्वतंत्रता दिवस पर प्रदेश की जनता के नाम दिया सन्देश

  • सभी प्रदेश वासियों को दी स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें

भोपाल. पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ ने 15 अगस्त पर प्रदेश वासियों संदेश देते हुए कहा कि मैंने पिछले वर्ष मुख्यमंत्री के रूप में आपको संबोधित किया था और शुभकामनायें दी थी। त्याग और कुर्बानी के साथ पूज्य महात्मा गाँधी के नेतृत्व में देश आजाद हुआ प्रजातंत्र के ढांचे में हमारा संविधान बना। आज इसकी रक्षा करना हमारा प्रथम कर्तव्य है ताकि आगे आने वाली पीढ़ियों को हम एक प्रजातान्त्रिक चरित्र सौंप सके। बाबा साहब अम्बेडकर ने जब संविधान बनाया उन्होंने एक नैतिक एवं सैधान्तिक राजनीति अपने देश में होगी उसके अनुसार प्रावधान रखें। आज संविधान कितने खतरे में हैं यह चित्र आपके सामने है ?

श्री नाथ ने कहा कि 17 दिसंबर 2018 को मैंने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी और 20 मार्च 2020 को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया। मेरी सरकार को सिर्फ 15 महीने मिले l मैंने किसानों, नौजवानों और गरीबों के लिये योजना बना कर काम करना शुरू किया। किसान फसल कर्ज माफ़ी योजना के दो चरण में, मेरी सरकार ने लगभग सत्ताईस लाख किसानों का बारह हजार करोड़ रुपये का कर्जा माफ़ किया। एक जून दो हजार बीस से तीसरा चरण प्रारंभ होने वाला था, जिसमे लगभग पांच लाख किसानों का कर्ज माफ़ करने का प्रावधान था। हमारे प्रदेश के युवाओं की एक नयी सोच है, उनकी आशायें हैं, उनमे आगे बढ़ने की तड़फ है l इन नौजवानों के भविष्य को सुरक्षित करने की योजना पर, मैंने कार्य शुरू किया।

प्रदेश में निवेश तभी आता है जब विश्वास हो, मध्यप्रदेश के प्रति विश्वास कैसे बढ़े, इसकी जरुरत थी-मैंने विश्वास बढ़ाने का प्रयास किया l इससे प्रदेश के नौजवानों को रोजगार मिलता और आर्थिक गतिविधि में तेजी आती। मध्यप्रदेश कि एक नयी पहचान और प्रोफाइल बने इसके लिये एक नयी शुरुआत की l बहुत समय से माफिया और मिलावटखोर मध्यप्रदेश की पहचान थे l मैंने इनके खिलाफ अभियान शुरू किया। मैंने प्रदेश में सौ रुपये में- सौ यूनिट बिजली देने का निर्णय लिया और किसानों को सिंचाई पंप लगाने और बिजली कनेक्शन की राशि को कम किया। मैंने कन्या विवाह की राशि बढ़ा कर 51 हजार रुपये l बुजुर्गों की पेंशन राशि छह सौ रुपये की l
गौमाता के संरक्षण और सुरक्षा की बहुत बड़ी आवशयकता थी।

हमने गौशाला के निर्माण की शुरुआत की। देश भर में सबसे ज्यादा गौशाला हमारे प्रदेश में बनी। मेरी सरकार ने सरकारी कर्मचारियों के महंगाई भत्ते बढ़ाने, स्वास्थ्य बीमा जैसे कर्मचारी हित के फैसले लिये। हमने आध्यात्म विभाग बनाया और तब राम-वन-गमन-पथ की योजना बना कर राशि स्वीकृत की। उज्जैन के बाबा महाकाल मंदिर, ओम्कारेश्वर मंदिर के विकास के साथ-साथ पवित्र नर्मदा और शिप्रा नदी के संरक्षण का अभियान प्रारंभ किया। मेरा सपना है की मध्यप्रदेश की एक विशेष पहचान बने l हमारा प्रदेश एक समृद्ध और विकसित राज्य बने। प्रदेश के नागरिक पिछले महीनों से कोरोना महामारी का सामना कर रहे हैं, उनके संघर्ष में हम सभी उनके साथ है l प्रदेश के कोरोना वारियर्स को मैं सैल्यूट करता हूं।

मेरी सरकार ने प्रदेश की जनता के हित में जो कार्य और योजनायें शुरू की थी उनमे से कुछ अधूरे हैं। प्रदेश में खुशहाली का दौर जो हमने शुरू किया वो रुक गया है। मेरे सपनो का मध्यप्रदेश- एक नया मध्यप्रदेश बनाने का मैंने संकल्प लिया है। हर साल 15 अगस्त हम सभी के लिये एक नयी प्रेरणा और चुनौती लेकर आता है l हमें इस बार लोकतंत्र और संविधान को मजबूत बनाने के लिये एकजुट होकर आगे आना होगा। आज प्रदेश की तस्वीर आपके सामने है आजके दिन हम संकल्प लें हम सच्चाई को पहचानते हुए सच्चाई का साथ दें। पुनः आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें।

Leave a Reply